[पंजीयन] जीवन शक्ति योजना मध्यप्रदेश 2020 (महिलायें घर पर मास्क निर्माण कर कमा सकती है पैसा)

जीवन शक्ति योजना मध्यप्रदेश 2020 (महिला उद्यमियों द्वारा मास्क निर्माण योजना) (ऑनलाइन पंजीकरण पोर्टल, हेल्पलाइन नंबर, लॉग इन, अमाउंट, राशी, पात्रता, कैसे करे आवेदन, पंजीयन विवरण, डाउनलोड फॉर्म)  (Jeevan Shakti Yojana MP in Hindi) (Online Registration Form Download, Amount, Help Desk, How to apply, Login, Panjiyan @maskupmp.mp.gov.in)

कोरोना वायरस से अब तक भारत में 29,435 ग्रसित हो चुके हैं जिसमें से 6,869 लोग ठीक भी हो गए हैं परंतु इस महामारी के चलते भारत में लगभग 934 लोग अपनी जान भी गवां चुके हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से लगातार लोगों को यही हिदायत दी जाती है कि सावधानी ही इस बीमारी से उन्हें बचा सकती है। विशेषज्ञ सदैव यही कहते आए हैं कि अधिकतर बीमारियों का प्रभाव हमारे श्वसन तंत्र से होते हुए हमारे शरीर को प्रभावित करता है ऐसा ही कुछ कोरोनावायरस के केस में भी है। जिसके चलते अपने मुंह को ढक कर रखने का निर्देश निरंतर स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से दिया जा रहा है। ऐसे में देश में मास्क की मांग दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। इस समस्या को समझते हुए मध्य प्रदेश सरकार ने एक अनोखा कदम उठाया है जो कि बेहद सराहनीय भी है। आइए जान लेते हैं कि उनका ऐसा कौन सा कदम है जो देश के लिए फायदेमंद है और साथ ही महिलाओं के लिए भी रोजगार प्रदान करने वाला है।

jeevan-shakti-yojana-mp-register-maskupmp-hindi

लांच की जानकारी

योजना का नामजीवन शक्ति योजना
राज्यमध्यप्रदेश
लांच की तारीख25 अप्रैल, 2020
लांच की गईमुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी द्वारा
योजना का संचालनमध्यप्रदेश शासन के द्वारा
अधिकारिक पोर्टलmaskupmp.mp.gov.in
हेल्पलाइन नंबर0755 – 2700800
हेल्पलाइन की उपलब्धतासुबह 9 से शाम 6 बजे तक
मास्क की कीमत11 रूपए प्रति मास्क

क्या है जीवन शक्ति योजना?

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा लाई गई जीवन शक्ति योजना के तहत सरकार द्वारा फेस मास्क का निर्माण मध्यप्रदेश राज्य में करवाया जाने वाला है। इस योजना में मुख्य आवेदनकर्ता महिलाएं होने वाली हैं जिनसे उन्हें घर बैठे रोजगार के अवसर भी प्राप्त होंगे और साथ ही देश की सहायता भी हो जाएगी। आइए जान लेते हैं इस योजना को थोड़ा और विस्तार पूर्वक…..

जीवन शक्ति योजना की विशेषताएं एवं लाभ:-

योजना का उद्देश्य:-

इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश में दिन प्रतिदिन बढ़ती हुई मास्क की मांग को पूरा करना होगा। इस योजना के जरिए शहर में रहने वाली महिलाओं को रोजगार प्रदान करते हुए घर बैठे पैसे कमाने का अवसर भी प्राप्त होगा और साथ ही देश के नागरिकों को सुरक्षा हेतु पहने जाने वाले फेस मास्क की आपूर्ति भी होती रहेगी।

महिलाओं के लिए रोजगार:-

ऐसे में जब लोग बेरोजगार हो चुके हैं तब मध्य प्रदेश सरकार ने घर बैठे महिलाओं को एक ऐसा काम सौंपा है जो बेहद सरल भी है और आवश्यक भी। इस योजना के नियमानुसार महिलाओ को घर बैठे कपड़े के फेस मास्क बनाकर सरकार मध्य प्रदेश की सरकार तक पहुंचाने होंगे जिन के बदले उन्हें उनकी मेहनत की राशि प्राप्त होगी।

मास्क का निर्माण:-

विशेषज्ञों का मानना है कि सूती कपड़ा हमारे चेहरे के लिए बेहद सही है क्योंकि इससे किसी भी प्रकार का इंफेक्शन का खतरा भी नहीं रहता है। ऐसे में सरकार ने हिदायत दी है कि घर पर बनाए जाने वाले मास्क का निर्माण सूती कपड़े से करना ही बेहतर विकल्प है।

मास्क की कीमत:-

देश में बढ़ती हुई मास्क की मांग को देखते हुए देश में कालाबाजारी आरंभ हो गई है जिसके बाद दुकानों पर मास्क की कीमत लगभग 250 रुपये से 300 रुपये तक आंकी गई है। परंतु सरकार द्वारा इन मास्क की एक निर्धारित कीमत रखी गई है जिसे प्रत्येक वर्ग के व्यक्ति आसानी से खरीद सकते हैं और वह कीमत मात्र 11 रुपये है।

मास्क की बिक्री:-

महिलाओं द्वारा निर्मित मास्क को वह अपने जिले में भी बेच सकती हैं और साथ ही सरकार तक पहुंचा भी सकती हैं।

बेची जाने वाली सामग्री की खरीद:-

इस योजना के अंतर्गत इस्तेमाल की जाने वाली प्रत्येक सामग्री की खरीद में जिला स्तर का हस्तक्षेप होगा।

कोरोनावायरस से रोकथाम:-

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने खास तौर पर यह हिदायत दी है कि नागरिकों को ऐसे फेस मास्क का इस्तेमाल करना चाहिए जिसे इस्तेमाल के बाद आसानी से समाप्त भी किया जा सके और पर्यावरण भी सुरक्षित रहे। उनका मानना है इस वैश्विक महामारी के दौरान चेहरे पर मास्क लगाना अनिवार्य है इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को इस संक्रमण से बचने के लिए सूती कपड़े से बने मास्क का इस्तेमाल अवश्य करना चाहिए।

पैसों का भुगतान:-

महिलाओं द्वारा मास्क का निर्माण कार्य पूरा हो जाने के बाद सरकार द्वारा महिलाओं के खाते में भुगतान की जाने वाली राशि प्रदान की जाएगी।

जीवन शक्ति योजना में पात्रता मापदंड

मध्य प्रदेश निवासी महिलाएं:-

यह योजना मध्य प्रदेश सरकार द्वारा आरंभ की गई है इसलिए मुख्य रूप से मध्यप्रदेश की सीमा के अंदर निवास करने वाली महिलाओं को ही इस योजना के तहत आवेदन अनिवार्य किया गया है।

शहरी महिलाएं:-

आंकड़ों को देखकर पता चलता है कि अधिकतर संक्रमण शहरी क्षेत्रों में ही फैल रहे हैं इसी बात को ध्यान में रखते हुए मध्य प्रदेश सरकार ने यह फैसला लिया है कि शहर में रहने वाली महिलाओं को ही इस योजना के तहत मास्क बनाने का कार्यभार सौंपा जाएगा।

बैंक खाता धारक:-

सरकार द्वारा मास्क की खरीद के बदले महिलाओं के खाते में राशि का भुगतान किया जाएगा इसलिए आवश्यक है कि आवेदक कर्ता महिला के पास खुद का बैंक खाता अवश्य होना चाहिए।

जीवन शक्ति योजना में पंजीकरण के दौरान लगने वाले दस्तावेज

आधार कार्ड:-

आवेदन करते समय इस योजना में सबसे महत्वपूर्ण दस्तावेज आधार कार्ड ही है।

मोबाइल नंबर:-

आधार कार्ड से लिंक किया गया मोबाइल नंबर भी इस योजना के अंतर्गत आवेदन भरते समय अनिवार्य है।

जीवन शक्ति योजना में पंजीकरण करने की प्रक्रिया

शहर में रहने वाली महिलाओं को इस योजना के अंतर्गत पंजीकरण के तीन विकल्प प्रदान किए गए हैं जो निम्नलिखित है:-

हेल्पलाइन नंबर के माध्यम से:-

योजना से जुड़ा एक हेल्पलाइन नंबर भी मध्य प्रदेश सरकार द्वारा जारी किया गया है जो 0755-2700800 है। इस नंबर पर जब आवेदन कर्ता महिला कॉल करेंगी तो उनसे संबंधित जानकारी पूछी जाएगी और वह सही जवाब देकर अपना पंजीकरण करा सकती हैं। इस हेल्पलाइन नंबर को जारी रखने का समय सुबह 9:00 से शाम 6:00 बजे तक ही रखा गया है।

ऑनलाइन मोबाइल नंबर या आधार कार्ड नंबर से पंजीकरण:-

इस योजना के तहत मध्य प्रदेश सरकार द्वारा ऑनलाइन पंजीकरण का तरीका भी निकाला गया है जिसमें आवेदन कर्ता मोबाइल नंबर अथवा आधार कार्ड नंबर के माध्यम से अपना पंजीकरण दर्ज करा सकते हैं। आइए जान लेते हैं पंजीकरण की पूरी प्रक्रिया:-

  • मध्य प्रदेश सरकार द्वारा जारी की गई आधिकारिक वेबसाइट की लिंक पर आपको सबसे पहले जाना होगा।
  • उस स्क्रीन के होम पेज पर ही आपको महिला उद्यमी पंजीयन का विकल्प नजर आएगा।
  • उस विकल्प पर जैसे ही आप क्लिक करेंगे तुरंत आपके सामने एक नया पेज खुल जाएगा और वह होगा इस योजना का रजिस्ट्रेशन फॉर्म।
  • निर्देश अनुसार रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया से पहले आपको पंजीकरण का माध्यम चयन करने के लिए पूछा जाएगा।
  • आप अपने आधार कार्ड नंबर अथवा मोबाइल कार्ड नंबर किसी भी एक नंबर से अपना रजिस्ट्रेशन कराने के लिए विकल्प का चुनाव कर सकती हैं।
  • यदि आप पंजीकरण करते समय अपने मोबाइल के जरिये रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया पर जाना चाहती हैं, तो इसके लिए आपको अपना मोबाइल नंबर वहां पर डालना होगा। जैसे ही आप अपना मोबाइल नंबर चुने हुए विकल्प में भर्ती है तुरंत आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक एसएमएस आएगा उस s.m.s. में आपको एक ओटीपी नंबर भेजा जाता है। जिसे उस स्क्रीन में दिए हुए विकल्प पर डालते ही आपका रजिस्ट्रेशन  पूरी तरह सत्यापित हो जाएगा।
  • यदि आप पंजीकरण प्रक्रिया को आधार कार्ड से जोड़कर पूरा करना चाहती हैं तो वहां पर आप के आधार कार्ड में मौजूद नाम के साथ साथ आधार कार्ड के साथ लिंक आपका फोन नंबर भी विकल्प में  मांगा जाएगा जिससे आपको ठीक ठीक भरना होगा।
  • इन सभी प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद आपको अंत में वहां पर रजिस्ट्रेशन फॉर्म सेव करें का विकल्प नजर आएगा जिस पर आप को क्लिक करना होगा।
  • रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरने की प्रक्रिया पूरी होते ही आपके द्वारा भरे गए मोबाइल नंबर पर आपका पंजीकरण संख्या के साथ साथ यूजर आईडी और उसका पासवर्ड भी आपको भेज दिया जाएगा।
  • लिंक प्राप्त होते ही आपको उस लिंक पर क्लिक करना होगा और उस पोर्टल पर आपको लॉग इन करना होगा।
  • लॉगइन करते ही वहां से आपको सरकार द्वारा प्राप्त आर्डर मिल जाएगा जिसके अनुसार आपको मास्क का निर्माण करना होगा।

नोट:- इस योजना की सहायता से मध्य प्रदेश सरकार द्वारा महिलाएं आत्मनिर्भर हो पाएगी इसके लिए वे मध्यप्रदेश में रहने वाली अधिकतर महिलाओं को इस योजना में प्रवेश का मौका देना चाहते हैं। इसी कारणवश एक महिला को केवल 200 फेस मास्क बनाने का ही ऑर्डर एक माह की अवधि में दिया जाएगा। महिलाओं द्वारा आर्डर पूरा करने के बाद उन्हें अपने क्षेत्र में मौजूद नगरीय निकाय में जाकर नोडल अधिकारी को अपना काम दिखाना होगा। महिलाओं द्वारा निर्मित मास्क की गुणवत्ता की जांच करना उन अधिकारियों का काम होगा जिसके बाद महिलाओं को उस डिलीवरी के बाद उनकी मेहनत के बदले राशि का भुगतान प्रदान कर दिया जाएगा। साथ ही पंजीकरण के समय प्रत्येक महिला आवेदन करता से फॉर्म में उनकी क्षमता के बारे में भी पूछा जाएगा कि वह 1 महीने के अंदर कितने मास्क का निर्माण अपने हाथों से करने में सक्षम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *