मधुर गुड़ योजना छत्तीसगढ़ – बस्तर में कुपोषण के खिलाफ अभियान 2020

मधुर गुड़ योजना छत्तीसगढ़ – बस्तर में कुपोषण के खिलाफ अभियान 2020 (Madhur Gur Yojana Chhattisgarh in hindi)

कुपोषण जैसी गंभीर बीमारी से लड़ने के लिए छत्तीसगढ़ की सरकार ने एक ऐसी योजना का शुभारंभ किया है , जिससे छत्तीसगढ़ का प्रत्येक गरीब और कुपोषित परिवार लाभ उठाकर अपने परिवार को पौष्टिक एवं स्वास्थ्य प्रदायक खाद्य पदार्थ से अपने परिवार को स्वस्थ एवं कुपोषण मुक्त कर सकता है . जगदलपुर में मिशन कंपाउंड ग्राउंड में एक समारोह के दौरान छत्तीसगढ़ के खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने 16 जनवरी 2020 को मधुर गुड़ी योजना का शुभारंभ किया है . प्रत्येक गरीब और कुपोषित परिवार को 17 रूपए में 2 किलो गुड प्रतिमाह प्रदान किया जाएगा. इस योजना से बस्तर संभाग के करीब 6, 59000 से भी अधिक गरीब और कुपोषित परिवारों को इस योजना का लाभ पहुंच सकेगा.

इस योजना का लाभ लोगों को देने के लिए लगभग 50 करोड़ प्रतिवर्ष खर्च किए जाएंगे. खासकर बस्तर जिले के क्षेत्र में 15, 800 टन गुड वितरित करने के लिए उपलब्ध करवाए जाएंगे. इस योजना के जरिए कुपोषण जैसी गंभीर बीमारी को रोकने के लिए लगाम लगाई जाएगी. इसके अलावा कुपोषित रहित छत्तीसगढ़ को करने के लिए किशोरियों, कुपोषित बच्चे और गर्भवती महिलाओं को आवश्यक पोस्टिक आहार भी इस योजना के तहत उपलब्ध करवाए जाएंगे.

Madhur Gur Yojana Chhattisgarh hindi

छत्तीसगढ़ ऐसा पहला राज्य बन गया है, जो कम दामों पर गरीब और कुपोषित परिवारजनों को गुड़ और चावल वितरित करने वाला है. इसके अतिरिक्त छत्तीसगढ़ की सरकार वहां के स्कूलों एवं आंगनवाड़ी विद्यालयों में बच्चों के लिए अंडा वितरित भी करवाने वाली है.

योजना को शुरू करने का उद्देश्य ?
योजना का उद्देश्य केवल कुपोषण जैसी बीमारी से राज्य को मुक्त करना है और जरूरतमंद लोगों को पौष्टिक एवं स्वास्थ्य प्रदायक खाद्य पदार्थ उपलब्ध करवाना है.

योजना का लाभ ?
इस योजना से छत्तीसगढ़ के गरीब और कुपोषित परिवारों को स्वास्थ्य लाभ मिल सकेगा.

  • इस योजना के अंतर्गत छत्तीसगढ़ राज्य के प्रत्येक गरीब एवं कुपोषित परिवार को मात्र 17 रूपए की न्यूनतम धनराशि से 2 किलो गुड़ की प्राप्ति होगी.
  • अब गरीब लोगों को गुड खरीदने के लिए मार्केट के अधिक मूल्यों के बजाय कम मूल्य में ही सरकार द्वारा बड़ी आसानी से प्राप्त हो जाएंगे.
  • इस योजना के अंतर्गत खासतौर पर बस्तर क्षेत्र के लोगों को 15,800 टन जरूरतमंद एवं कुपोषित परिवारों के लिए उपलब्ध करवाया जाएगा.
  • इस योजना के अंतर्गत छत्तीसगढ़ राज्य के प्रत्येक गरीब एवं कुपोषित परिवार को पौष्टिक एवं स्वास्थ्य प्रदायक खाद्य पदार्थ बहुत ही न्यूनतम धनराशि पर प्राप्त हो सकेंगे.
  • इस योजना से छत्तीसगढ़ राज्य के हर एक जरूरतमंद व्यक्ति एवं गरीब की पोषित परिवार को कुपोषण से राहत मिल सकेगी.

इस तरीके की योजना को सबसे पहले छत्तीसगढ़ राज्य ही शुरू करने जा रहा है.

Other links –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *