मुख्यमंत्री अमृत आँचल योजना उत्तराखंड – बच्चों को निःशुल्क दूध दिया जायेगा

मुख्यमंत्री अमृत आँचल योजना उत्तराखंड (Mukhyamantri Amrit Aanchal Yojana Uttrakhand in Hindi)

बच्चों को छोटे से ही पोषण युक्त आहार देने से वे हमेशा स्वस्थ रहते हैं, लेकिन यदि बच्चों को ये आहार नहीं मिले तो वे कुपोषित भी रह जाते हैं. और ऐसा अधिकतर समाज के वंचित वर्गों के बच्चों के साथ ही होता हैं. इसलिए बेहतर हैं देश भर में कुछ ऐसी व्यवस्था की जाये जिससे कोई भी बच्चा कुपोषण का शिकार न हो सकें. इसके लिए शुरुआत उत्तराखंड सरकार ने कर दी हैं. उन्होंने आंगनवाड़ी सेंटर्स में बच्चों को उच्च गुणवत्ता वाला सबसे ज्यादा पोषण युक्त स्त्रोत दूध प्रदान करने के लिए एक योजना की शुरुआत की हैं, जिसका नाम है मुख्यमंत्री अमृत आँचल योजना. इस योजना के तहत राज्य भर में 20 हजार आँगनवाड़ी सेंटर्स ऐसे होंगे, जिनमें कम से कम 2.5 लाख बच्चों को निःशुल्क दूध प्रदान किया जायेगा.

Mukhyamantri Amrit Aanchal Yojana Uttrakhand

इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य से कुपोषण को ख़त्म करना हैं ताकि सभी स्वस्थ रहें और किसी को कोई भी बीमारी का सामना न करना पड़ें. आपको बता दें कि इस योजना में दूध की मात्रा 100 – 100 एमएल होगी, जोकि बच्चों को एक सप्ताह में 2 बार प्रदान की जायेगी. इसके साथ ही इन 20 हजार आँगनवाड़ी सेंटर्स में सुगंधित, मीठा और स्किम्ड मिल्क पाउडर उपलब्ध कराया जाएगा. इससे सबसे बड़ा लाभ यह होगा कि बच्चों को दूध के सभी पोषण युक्त वैल्यू जैसे प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन्स की सही मात्रा प्रदान होगी, जोकि उनके दांत और हड्डियाँ मजबूत बनाये रखने में उनकी मदद करेंगे.

इस योजना के तहत सभी आँगनवाड़ी सेंटर्स द्वारा उत्तराखंड राज्य के 3 से लेकर 6 साल तक की उम्र के बच्चों को दूध प्रदान किये जाने का प्रावधान है. महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा राज्य में इस तरह की योजना को शुरू करने के लिए एक बड़ी पहल बताया जा रहा है. क्योंकि उत्तराखंड में कुपोषण से पीढित ऐसे लगभग 18 हजार बच्चे हैं, उन्हें संतुलित आहार प्रदान करके फिट और स्वस्थ बनाने और कुपोषण से निपटने में यह योजना काम आयेगी.

इस योजना के लागू होने की बात की जाये तो बच्चों को दूध उपलब्ध कराने के लिए 9 हजार गायों को तैयार किया गया है. इसके साथ ही उत्तराखंड राज्य सरकार ने किसानों से सहायता मांगी है, ताकि राज्य के बच्चों को पर्याप्त मात्रा में दूध दिया जा सके. 

इस योजना के माध्यम से बच्चे के स्वस्थ होने से देश भी स्वस्थ एवं सुरक्षित रहेगा, और कोई भी बीमारी उन्हें ग्रसित नहीं कर पायेगी. अतः यह योजना बच्चों के स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा उपहार की तरह राज्य सरकार द्वारा लाई गई है.

Other links –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *