छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना क्या है ?

छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना क्या है ? (Mukhyamantri Khiladi Protsahan Yojana Chhattisgarh in hindi)

छत्तीसगढ़ सरकार वहां के खेलकूद में इंटरेस्ट रखने वाले लोगों के लिए कई सुविधाएं मुहैया कराने के लिए तैयार है. छत्तीसगढ़ राज्य में प्रत्येक खेलो एवं वहां के खिलाड़ियों को सुविधा प्रदान करने के लिए कारपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी फंड का इस्तेमाल किया जाएगा. खेल से जुड़े इस फैसले को प्राधिकरण गवर्निंग बॉडी की पहली बैठक में लिया गया था. सीएम के निवास स्थान पर गुरुवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में बैठक हुई और इस बैठक के दौरान मुख्यमंत्री खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना को आरंभ करने के साथ-साथ कई अन्य महत्वपूर्ण खेल एवं खिलाड़ियों के लिए निर्णय लिए गए हैं.

Mukhyamantri Khiladi Protsahan Yojana Chhattisgarh

मुख्यमंत्री खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना से क्या लाभ मिलेगा

मुख्यमंत्री खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना के माध्यम से खेलों में रुचि रखने वाले जरूरतमंद लोगों के लिए आर्थिक सहायता भी इसके अंतर्गत प्रदान की जाएगी और इतना ही नहीं छत्तीसगढ़ प्रदेश के सभी पारंपरिक खेलों को भी महत्वता प्रदान की जाएगी. आज के समय में सभी प्रकार के पारंपरिक खेल विलुप्त होते जा रहे हैं, लिहाजा इस वजह से भी इस पर विशेष रूप से ध्यान दिया जा रहा है.

लगभग सभी महत्वपूर्ण खेल स्टेडियम अब प्राधिकरण के अधीन ?
छत्तीसगढ़ प्रदेश के सीएम निवास में एक बैठक के दौरान यह निर्णय लिया गया, कि छत्तीसगढ़ में जितने भी प्रमुख खेल स्टेडियम हैं उनको इस योजना के अधीन में लाया जाए. सभी प्रकार के खेलों के अकादमी का संचालन सीएसआर मद के माध्यम से किया जाएगा. मुख्यमंत्री ने खेल के प्रति अपने इस योजना के लिए कई कार्य योजनाएं तैयार करने के लिए आदेश दे दिया है और यह कार्य मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित प्रदीकरण की कार्यकारिणी समिति को सौंप दिया गया है. खेल एवं खिलाड़ियों के प्रति इस महत्वपूर्ण निर्णय को लगभग सभी प्रकार के मंत्री बैठक में मौजूद थे.

इस योजना के अंतर्गत पहले चरण के लिए 12 स्टेडियम का चयन किया –
छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों को आधुनिक खेल सुविधा और प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए छत्तीसगढ़ प्रदेश में कई आधुनिक अकादमिया प्रारंभ की जाएंगी. इन सभी आधुनिक अकादमीयों के लिए स्टेडियमों का चयन का दायित्व मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित प्राधिकरण की कार्यकारिणी समिति को सौंप दिया गया है. छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने सभी संबंधित अधिकारियों को खेल अकादमीयों के लिए स्टेडियम का चयन शीघ्र से शीघ्र करने का आदेश दिया हुआ है. खेल एवं युवा कल्याण मंत्री उमेश पटेल ने लोगों को यह जानकारी देते हुए बताया, कि लगभग पहले चरण में 12 स्टेडियम का चयन किया जाएगा.

योजना की सफलता के लिए दो सांसद, पांच विधायक और दो उत्कृष्ट खिलाड़ियों का होगा मनोनयन –

योजना का निर्वाहन करते हुए मंत्री पटेल ने यह लोगों को बताया है, कि इस योजना के अंतर्गत दो सांसदों पांच विधायकों एवं स्वयं छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री बघेल जी भी अधिकृत रूप से योजना की सफलता के लिए कार्य करेंगे. छत्तीसगढ़ प्रदेश में कई पारंपरिक खेलों को बढ़ावा देने के लिए अकादमी का आरंभ किया जाएगा जिनमें :- हाकी, तीरंदाजी, एथलेटिक, क्रिकेट, स्विमिंग, आर्चरी, इंडोर गेम्स (मार्शल आर्ट), फुटबॉल, बास्केटबॉल, टेबल टेनिस, कबड्डी और खो-खो आदि खेलों का चयन किया गया है.

Other links –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *