बेरोजगारों के लिए यूपी सरकार हर जिले में खोलेगी युवा हब – रोजगार के लिए बेहतरीन मौका

बेरोजगारों के लिए यूपी सरकार हर जिले में खोलेगी युवा हब – रोजगार के लिए बेहतरीन मौका 2020 (उत्तरप्रदेश युवा उद्यमिता विकास अभियान) (UP Yuva Udyamita Vikas Abhiyan in Hindi)

आ गया हैं उत्तरप्रदेश का इस साल का बजट, और इस साल के बजट के आने से राज्य के युवाओं में एक ख़ुशी की नई लहर दौड़ गई है. जी हां उत्तरप्रदेश के इस बजट में राज्य के युवाओं के विकास के लिए अर्थात उन्हें स्वरोजगार एवं रोजगार प्राप्त हो, इसके लिए उत्तरप्रदेश राज्य सरकार की ओर से 2 बड़ी योजनायें शुरू करने का ऐलान कर दिया गया है. इन 2 बड़ी योजनाओं में से एक ‘उत्तरप्रदेश युवा उद्यमिता विकास अभियान’ है. इस अभियान के तहत युवाओं को स्वयं के रोजगार के लिए प्रोत्साहित किया जाना है.

UP Yuva hub Udyamita Vikas Abhiyan

आपको हम यह जानकारी दे दें कि इस अभियान के तहत उत्तरप्रदेश राज्य के प्रत्येक जिले में युवाओं के लिए हब का निर्माण करने का फैसला किया गया है. ये हब इस योजना का लाभ लेने वाले युवाओं की स्वयं के रोजगार को शुरू करने के लिए उसके प्रोजेक्ट एवं परिकल्पना के संचालन में मदद करेंगे. उनका प्रोजेक्ट अच्छे से स्थापित हो सकें, इसके लिए इन प्रोजेक्ट के संचालन के लिए एक साल तक उन्हें वित्तीय रूप से मदद प्रदान करने का भी ऐलान राज्य सरकार के इस उद्यमिता विकास अभियान के तहत किया गया है.

इस अभियान के बजट की बात करें तो केंद्र सरकार के द्वारा राज्य सरकार को लगभग 1200 करोड़ रूपये प्रदान किये जायेंगे, ताकि वे युवाओं को उनके स्वरोजगार को शुरू करने में आर्थिक रूप से मदद कर सकें. और इसके अलावा 50 करोड़ रूपये का आवंटन भी प्रत्येक जिलों में बनने वाले हब के लिए किया गया है. इस तरह से इस अभियान में केंद्र एवं राज्य दोनों सरकारों का योगदान रहेगा. इस योजना का लाभ उत्तरप्रदेश राज्य के कम से कम 1 लाख निवासी उठाने के लिए पात्र होंगे, जिन्हें इस योजना के माध्यम से स्वावलंबन की ओर ले जाया जायेगा.  

दरअसल यूपी कौशल विकास मिशन कार्यक्रम के तहत सरकार ने लगभग 2 लाख युवाओं को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा है. इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए ही सरकार ने इस तरह की पहल की है. इससे युवाओं की बेरोजगारी की समस्या तो ख़त्म होगी ही साथ में स्वरोजगार के लिए उन्हें प्रोत्साहित भी किया जायेगा.

यूपी में युवाओं के बेरोजगारी से संबंधित सरकार एवं अलग – अलग विपक्षी पार्टियों द्वारा कई तरह के तर्क दिए गये हैं, जैसे एक तरफ जहां विपक्षी दलों का कहना है कि पिछले 3 सालों में राज्य में बेरोजगारों की संख्या में 60 % की वृद्धि हुई है, लेकिन वहीँ राज्य सरकार का कहना है कि पिछले 3 सालों में राज्य में बेरोजगारी की समस्या से काफी हद तक निजात पाया गया है. अब किसका कहना सही है यह कहना तो मुश्किल हैं, लेकिन इस तरह के अभियान से निश्चित रूप से ही युवाओं को रोजगार एवं स्वरोजगार के बेहतर अवसर मिल सकते हैं.

Other links –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *