उत्तराखंड मुफ्त कोचिंग योजना एससी / एसटी छात्र 2019 – 20

उत्तराखंड मुफ्त कोचिंग योजना एससी / एसटी छात्र 2019 – 20 (Uttarakhand Free Coaching Scheme for SC / ST Students in Hindi) [आवेदन पत्र, फॉर्म, पंजीकरण] (Eligibility Criteria, Application Form, Last date, Result)

देश में बहुत से गरीब छात्र एवं छात्राएं ऐसे हैं जोकि पढ़ाई में अच्छे होने के बावजूद भी अपने आईएएस या आईपीएस बनने के सपने को पूरा नहीं कर पाते. इसका एक मात्र कारण होता है आर्थिक स्थिति का बेहतर न होना. जिसके चलते वे लोग अपने सपने को पूरा करने के लिए अच्छे शिक्षकों से कोचिंग नहीं ले पाते. छात्र एवं छात्राओं की इस परेशानी को दूर करने के लिए उत्तराखंड सरकार द्वारा एक योजना की शुरुआत की गई है, जिसमें वे लोग जो गरीब हैं और एससी / एसटी श्रेणी में आते हैं उन्हें सरकार द्वारा मुफ्त में कोचिंग की सुविधा प्रदान की जाएगी. अब यह सुविधा किस तरह से और कितने लोगों को प्रदान की जाएगी यह जानकारी आपको नीचे इस लेख में दी हुई है.

free coaching in uttarakhand st sc

 लांच की जानकारी (Launched Details)

क्र. म. योजना की जानकारी बिंदु योजना की जानकारी
1. योजना का नाम उत्तराखंड मुफ्त कोचिंग योजना (Super 300)
2. योजना का लांच जून 2019 में
3. योजना की शुरुआत उत्तराखंड राज्य सरकार द्वारा
4. योजना के लाभार्थी गरीब अनुसूचित जाति और जनजाति श्रेणी के छात्र
5. योजना में कुल बजट 75 लाख रूपये (5 महीने के लिए)
6. संबंधित विभाग समाज कल्याण विभाग

उत्तराखंड मुफ्त कोचिंग योजना की विशेषताएं (Uttarakhand Free Coaching Scheme Features)

उत्तराखंड सरकार द्वारा राज्य के गरीब लोगों को उनके सपने पूरे करने के लिए शुरू की गई इस मुफ्त कोचिंग योजना की विशेषताएं इस प्रकार हैं –

  • गरीब छात्रों को सहायता :- इस योजना में वे छात्र जो आईएएस या पीएससी की प्रतियोगी परीक्षा को पास करना चाहते हैं, उन्हें अच्छे शिक्षक द्वारा बेहतर कोचिंग की सुविधा प्रदान की जाएगी. जिसके माध्यम से राज्य के गरीब छात्रों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने में आर्थिक सहायता मिल सकेगी.
  • पाठ्यक्रम :- उत्तराखंड सरकार ने इस योजना के तहत छात्र एवं छात्राओं को आईएएस पीएससी और अन्य राज्य स्तरीय प्रतियोगी परीक्षाओं आदि पाठ्यक्रमों के लिए मुफ्त में कोचिंग सुविधा प्रदान करने का प्रावधान रखा है.
  • कुल लाभार्थी :- इस योजना में राज्य सरकार द्वारा इस शुरूआती साल में पहले आवेदन करने वाले 300 छात्रों को बेस्ट – इन – क्लास प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा.
  • कोचिंग की अवधि :- इस योजना में आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने के लिए 5 महीने की मुफ्त कोचिंग सुविधा लाभार्थियों को दी जाएगी.
  • कुल संस्थान :- इस योजना में अभी हल्द्वानी, हरिद्वार, उधम सिंह नगर और देहरादून आदि स्थानों के कुल 11 संस्थानों से आवेदन लिए गये हैं. इसके बाद इसे आने वाले कुछ साल में पूरे राज्य में लागू किया जा सकता है.
  • कोचिंग में भुगतान :- राज्य सरकार द्वारा कोचिंग सेंटर्स को कुछ निश्चित राशि का भुगतान किया जायेगा, ताकि वे लाभार्थियों को मुफ्त में कोचिंग उपलब्ध करा सकें.

उत्तराखंड मुफ्त कोचिंग योजना में पात्रता मापदंड (Uttarakhand Free Coaching Scheme Eligibility Criteria)

  • उत्तराखंड का निवासी :- इस योजना में उत्तराखंड में रहने वाले गरीब छात्रों को लाभ प्रदान किया जाना है, इसलिए इसमें उत्तराखंड के निवासी ही शामिल हो सकते हैं.
  • जाति पात्रता :- इस योजना में केवल ऐसे एससी एवं एसटी जाति के छात्र – छात्राओं को कोचिंग दी जाएगी, जोकि गरीबी रेखा से नीचे की श्रेणी में आते हैं.

उत्तराखंड मुफ्त कोचिंग योजना सुपर 300 में उम्मीदवारों के चयन की प्रक्रिया (Selection Procedure of Candidates in Uttarakhand Free Coaching Scheme)

इस योजना के अंतर्गत यह तो हमने पहले ही आपको बता दिया है कि अगामी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने के लिए उत्तराखंड के अनुसूचित जाति और जनजाति श्रेणी के गरीब उम्मीदवारों को शामिल किया जायेगा. किन्तु इस योजना में उनका चयन किया जायेगा. इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थियों को कोई आवेदन नहीं करना है बल्कि छात्रों का चयन ‘फर्स्ट कम फर्स्ट सर्व’ (एफसीएफएस) के आधार पर किया जायेगा. अर्थात इस योजना में योग्य पहले 300 छात्र एवं छात्रायें मुफ्त में कोचिंग सुविधा प्राप्त करने के लिए चुने जायेंगे. अब तक इस योजना में सभी शिक्षण संस्थानों का चयन किया जा चूका है, और अब जुलाई 2019 से इस योजना में शामिल होने के लिए उम्मीदवारों के चयन की प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी.

उत्तराखंड मुफ्त कोचिंग योजना में आवेदन की प्रक्रिया (Uttarakhand Free Coaching Scheme Application Process)

इस योजना में ऑनलाइन या ऑफलाइन आवेदन करने के लिए कोई आवेदन फॉर्म एवं आवेदन प्रक्रिया नहीं है. इसमें जून महीने में अधिकारिक अधिसूचना जारी की जाएगी, जिसमें यदि उम्मीदवारों को कोचिंग सेंटर्स में दाखिला लेने के लिए कुछ दस्तावेज दिखाने पड़ेंगे, तो उसकी जानकारी भी दी हुई होगी. और सरकार द्वारा कोचिंग की राशि कोचिंग संस्थानों को प्रदान कर दी जाएगी. और जुलाई माह में सीधे उम्मीदवारों का चयन कर उन्हें यह कोचिंग सुविधा देना शुरू हो जायेगा.

राज्य सरकार ने इस योजना को 3 साल पहले शुरू किया था, उस दौरान एक भी छात्र एवं छात्राएं आईइएस या पीएससी की प्रतियोगी परीक्षा को उत्तीर्ण नहीं कर पाया था. जिसके चलते राज्य सरकार पर भ्रष्टाचार एवं अच्छे शैक्षिक संस्थानों का चयन न करने के आरोप लगाये गए थे. इसके बाद इस योजना को बंद कर दिया गया था, और इसे अब नई योजनाओं के साथ फिर से शुरू किया गया है. अब देखना होगा कि क्या इस बार यह योजना सफल हो पाती है या नहीं.

Other links –

Leave a Comment