[पंजीकरण] उत्तर प्रदेश विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना 2020

उत्तर प्रदेश विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना क्या है? यह योजना किस प्रकार से प्रदेश के नागरिकों के लिए लाभकारी होगी, पंजीकरण (Vishwakarma Shram Samman Yojana UP in hindi, Online Apply)

नौकरी ना मिलने पर सभी बेरोजगार व्यक्ति थक हार के अंत में अपना स्वयं का बिजनेस या स्वरोजगार शुरू करने का विचार करते हैं। मगर स्वरोजगार को शुरू करने के लिए भी एक अच्छे प्रशिक्षण और स्वरोजगार शुरू करने के लिए लागत की भी आवश्यकता पड़ती है। मगर बेरोजगार व्यक्तियों को भी स्वरोजगार शुरू करने में भी समस्याएं होती हैं। उन सभी को सोचना पड़ता है , कि स्वरोजगार शुरू करने के लिए एक अच्छे प्रशिक्षण और लागत किस प्रकार से वे प्राप्त कर पाएंगे। बेरोजगार व्यक्तियों के इन्हीं सभी समस्याओं और बेरोजगारी के स्तर को कम करने के लिए उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ का शुभारंभ किया है।

उत्तर प्रदेश की सरकार इस योजना के तहत सभी प्रारंभिक कार्य करो और दस्तकारों को स्वरोजगार शुरू करने के लिए उनको आवश्यक सहायता प्रदान करने का निर्णय ले चुकी है। इस योजना के माध्यम से सभी प्रारंभिक कारीगर और दस्तकार अपने हुनर को और भी बढ़ा सकेंगे और अपने रोजगार के क्षेत्र को विस्तृत भी कर सकेंगे।

vishwakarma shram samman yojana up

योजना का मुख्य उद्देश्य –

इस योजना के जरिए उत्तर प्रदेश सरकार चाहती है कि , स्वरोजगार के क्षेत्र में लोग ज्यादा से ज्यादा स्वयं को आगे लेकर आए और योजना द्वारा दिए जा रहे आर्थिक सहायता का लाभ उठाकर अपना छोटा सा स्वरोजगार बड़ी ही आसानी से शुरू कर सकें। आइए जानते हैं , इस योजना के कुछ विशेष बातों के बारे में और भी सभी आवश्यक जानकारी के बारे में जो इस प्रकार नीचे वर्णित है।

योजना के अंतर्गत मिलने वाली ट्रेनिंग –

उन सभी आवश्यक बेरोजगार व्यक्तियों के लिए जो स्वरोजगार शुरू करने के लिए एक अच्छा प्रशिक्षण हासिल करना चाहते हैं, उनको सरकार 6 दिन का ट्रेनिंग प्रशिक्षण प्रदान करेगी। सरकार द्वारा प्रदान किया जाने वाला यह प्रतीक्षा बिल्कुल निशुल्क होगा , इसका खर्चा स्वयं उत्तर प्रदेश सरकार निर्वहन करेगी।

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के अंतर्गत मिलने वाला लोन –

10,000 से लेकर ₹1000000 तक का वित्तीय सहायता के रूप में सरकार सभी छोटे कारीगरों को छोटा सा उनका स्वरोजगार शुरू करने के लिए ऋण प्रदान करेगी।

यूपी कारीगरों को मिलेगा लोन –

इस योजना के अंतर्गत सभी प्रकार के उत्तर प्रदेश राज्य के ग्रामीण और शहरी क्षेत्र के छोटे कारीगरों जैसे कि :- बढ़ई , दर्जी , टोकरी बुनने वाले , नाई , सुनार , लोहार , कुम्हार , हलवाई , मोची और पारंपरिक कारीगर के साथ हस्तशिल्प की कला को बढ़ावा देने के लिए सरकार इस योजना को प्रदेश के नागरिकों तक पहुंचाने का निर्णय ले चुकी है.

कुल लाभार्थी –

इस योजना के अंतर्गत प्रतिवर्ष लगभग 15000 बेरोजगार लोगों को स्वरोजगार शुरू करने के लिए प्रेरित किया जाएगा । उत्तर प्रदेश की योगी सरकार चाहती है , कि इस योजना का लाभ प्रत्येक पारंपरिक कारीगर या फिर स्थानीय दस्तकारों को योजना का लाभ संपूर्ण रूप से मिल सके , इस विषय में वह पूरा प्रयास करने के लिए तैयार हैं।

उत्तर प्रदेश विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना की क्या विशेष बातें हैं ?

इस योजना के अंतर्गत उत्तर प्रदेश सरकार और भी जरूरतमंद लोगों को फायदा पहुंचाने का निर्णय लेने वाली है , जिससे वे अपना स्वयं का स्वरोजगार शुरू कर सकें। इस योजना के अंतर्गत आवेदकों को किस प्रकार से प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा , इसकी संपूर्ण जानकारी नीचे निम्नलिखित दी गई है।

  • तहसील या फिर जिला मुख्यालय के द्वारा सभी प्रकार के श्रमिक मजदूरों को प्रशिक्षण देने का कार्य लघु या मध्यम उद्योग के विभाग का कार्य करेगी।
  • सभी प्रकार की योग्य श्रमिक कारीगरों को उत्तर प्रदेश सरकार 6 दिनों का प्रशिक्षण प्रदान करेगी। जिससे वह सभी योग श्रमिक कारीगर अपने स्वरोजगार को बड़ी ही आसानी से शुरू कर सके।
  • 6 दिनों के प्रशिक्षण में सभी श्रमिक कारीगरों के रहने , खाने-पीने और सभी प्रकार के आवश्यकता की चीजों की भरपाई का खर्चा स्वयं उत्तर प्रदेश सरकार उठाएगी.
  • इसके अतिरिक्त सभी ट्रेनिंग लेने वाले कारीगरों को ट्रेनिंग के दौरान मजदूरी के सामान उनको वित्तीय सहायता भी प्रदान करने का प्रावधान योजना में अंकित किया गया है।
  • इतना ही नहीं इस लाभकारी योजना के माध्यम से सभी प्रतिक्षित अधिकारों को ट्रेनिंग पूरी करने के बाद उनके कौशल तथा उनकी ट्रेड के अनुसार उन्नत किस्म का टूल किट भी उनको प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत सभी प्रकार के आवश्यक श्रमिक मजदूर योजना का लाभ उठाने के लिए अपना ऑनलाइन रूप से पंजीकरण करवाएंगे। पंजीकरण करवाने की व्यवस्था की जिम्मेदारी को आयुक्त एवं निर्देशक उद्योग और उधम प्रोत्साहन द्वारा किया जाएगा।

जरूरी दस्तावेज

इस योजना का लाभ लेने के लिए और साक्षात्कार के दौरान आपको कुछ आवश्यक दस्तावेजों की जरूरत पड़ सकती है , जो इस प्रकार से निम्नलिखित है।

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • आवेदक का जाति प्रमाण पत्र
  • आवेदक का निवास प्रमाण पत्र
  • आवेदक के पास उसकी बैंक खाते की प्रतिलिपि

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना ऑफिसियल साईट –

इसलिए संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी को हासिल करना चाहते हैं या इसे संपूर्ण रूप से समझना चाहते हैं , तो उत्तर प्रदेश श्रम विभाग की ऑफिशियल http://uplabour.gov.in/index-hi.aspx वेबसाइट जाएं। उत्तर प्रदेश की सरकार इस योजना के माध्यम से बेरोजगारी की समस्या को अपने प्रदेश के नागरिकों से दूर करना चाहती है।

इस लाभकारी योजना के माध्यम से सभी जरूरतमंद एवं पारंपरिक कारीगरों को उनका स्वयं का स्वरोजगार शुरू करने के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करना चाहते हैं , जिससे प्रदेश में बेरोजगारी की समस्या भी खत्म हो सकेगी। इस लाभकारी योजना के बारे में ओर भी लोगों को सूचित करने के लिए हमारे इस लेख को अपने मित्रजन एवं परिजन के साथ अवश्य साझा करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *